69000 शिक्षक भर्ती : अपने ही साथियों से जूनियर हो गए 36 हजार से अधिक शिक्षक, प्रमोशन में मिलेगा वरिष्ठता का लाभ - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Monday, 7 December 2020

69000 शिक्षक भर्ती : अपने ही साथियों से जूनियर हो गए 36 हजार से अधिक शिक्षक, प्रमोशन में मिलेगा वरिष्ठता का लाभ

69000 शिक्षक भर्ती : अपने ही 32 हजार साथियों से जूनियर हो गए 36 हजार से अधिक शिक्षक,  प्रमोशन में मिलेगा वरिष्ठता का लाभ


प्रदेश के परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में 36,590 शिक्षक अपने ही साथियों से जूनियर (कनिष्ठ) हो गए हैं। 69.000 शिक्षक भर्ती के द्वितीय चरण में चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित कर दिया गया। नवनियुक्त शिक्षक नौकरी पाने जंग तो जीत गए पर अपने ही साथियों से वरिष्ठता की लड़ाई हार गए। वरिष्ठता जाने का गम उन्हें अभी भले ही न सताए किन्तु पदोन्नति के समय उन्हें यही कनिष्ठता बहुत चुभेगी।



प्रदेश में 69000 शिक्षकों की भर्ती का दूसरा चरण भी नियुक्ति पत्र वितरण के साथ ही लगभग सम्पन्न हो गया है। चयनितों की जिलों में नियुक्ति पत्र वितरित कर दिए गए हैं। सरकार की मंशा 69.000 शिक्षकों की भर्ती एक साथ करने की थी। जून माह में 67.867 वयनितों की प्रथम मेरिट सूची जारी कर काउंसिलिंग प्रारम्भ कर दी गई थी एसटी वर्ग की लगभग 1,133 सीटे खाली रह गई थीं। हाईकोर्ट के आदेश के बाद काउंसिलिंग बीच में ही रोकनी पड़ी थी। फिर कट ऑफ मामले को लेकर शिक्षामित्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी।


 सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को शिक्षामित्रों के लिए लगभग 37 हज़ार पदों को छोड़कर शेष पदों पर भर्ती करने की छूट दे दी थी। बस यहीं से भर्ती का चरणों में होना तय हो गया था। सरकार ने प्रथम चरण में 31,277 पदों पर अक्टूबर में चयनितों की काउन्सलिंग कराकर उन्हें नियुक्ति पत्र वितरित कर दिए थे और वे अब विद्यालयों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 


सुप्रीम कोर्ट ने कट ऑफ मामले में दाखिल याचिकाओं को निस्तारित करते हुए सरकार के फैसले को सही ठहराया और सभी पदों पर भर्ती करने के निर्देश दिए। इसके पश्चात सरकार ने शेष 36,590 पदों पर चयनितों की काउंसिलिंग 2 से 4 दिसम्बर तक कराई और चयनितों को 5 दिसम्बर को नियुक्ति पत्र भी वितरित कर दिए।


 हजारों नवनियुक्त शिक्षक नौकरी पाने की खुशी  में फूले नहीं समा रहे हैं किन्तु उनके मन में इस बात की भी टीस है कि उनके लगभग 31 हज़ार साथी उनसे ही वरिष्ठ हो गए। उनकी यह वरिष्ठता पूरी सर्विस (सेवाकाल) में कायम रहेगी और वे पदोन्नति में भी आगे निकल जाएंगे।