बीएड अंतिम चरण आवंटन की फीस जमा करने का मौका 14 दिसम्बर तक, 16 दिसंबर से शुरू होने वाली पूल काउंसिलिंग अब 17 दिसंबर से, ईडब्ल्यूएस प्रमाण-पत्र अपलोड करने की सुविधा देने की मांग - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Sunday, 13 December 2020

बीएड अंतिम चरण आवंटन की फीस जमा करने का मौका 14 दिसम्बर तक, 16 दिसंबर से शुरू होने वाली पूल काउंसिलिंग अब 17 दिसंबर से, ईडब्ल्यूएस प्रमाण-पत्र अपलोड करने की सुविधा देने की मांग

बीएड अंतिम चरण आवंटन की फीस जमा करने का मौका 14 दिसम्बर तक

16 दिसंबर से शुरू होने वाली पूल काउंसिलिंग अब 17 दिसंबर से 

ईडब्ल्यूएस प्रमाण-पत्र अपलोड करने की सुविधा देने की मांग


उत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड-2020-22 की काउंसिलिंग में सीट पाने वाले अभ्यर्थियों को अब 14 दिसंबर तक फीस जमा करने का मौका मिलेगा। शनिवार और रविवार को अवकाश होने की वजह से यह मौका दिया गया है। इसके साथ ही 16 दिसंबर से शुरू होने वाली पूल काउंसिलिंग की तारीख अब 17 दिसंबर कर दी गई है।



बीएड की राज्य प्रवेश समन्वयक प्रो. अमिता बाजपेयी ने बताया कि ऑनलाइन काउंसिलिंग प्रक्रिया के अंतर्गत फेज 1 से फेज 4 तक जिन अभ्यर्थियों को सीट का आवंटन किया गया है, उन्हें अब 14 दिसंबर शाम 6:00 बजे तक फीस जमा करने का मौका दिया जाएगा। इसके बाद बची हुई सीटों का ब्यौरा निकाला जाएगा। इनपर दाखिले के लिए 17 दिसंबर से पूल काउंसिलिंग होगी। इसमें शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों को ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा।


ईडब्ल्यूएस प्रमाण-पत्र अपलोड करने की सुविधा देने की मांग
उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय संघ ने लविवि से ईडब्ल्यूएस कोटे के प्रमाण पत्र अपलोड करने का एक मौका और देने की मांग की है। संगठन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी ने कहा कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2020 की काउंसिलिंग में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग ईडब्ल्यूएस के छात्र-छात्राओं की श्रेणी लगभग सभी महाविद्यालयों में खाली जा रही हैं। 


छात्र-छात्राओं एवं अभिभावकों के महाविद्यालय में आने पर पता चला कि सामान्य वर्ग के छात्र-छात्राओं को इस आरक्षण के लाभ व ईडब्ल्यूएस प्रमाण-पत्र को जमा करने की पूर्ण जानकारी नहीं थी। सामान्य वर्ग के निर्धन छात्र-छात्राएं जो कि मुख्यत: गांव में बसते हैं, वह अखबार व दूरसंचार से दूर हैं तथा इस श्रेणी के समाज में कम प्रचार-प्रसार के चलते वह आवेदन के समय इस श्रेणी का लाभ उठाने से वंचित रह गए हैं। इसलिए उनको प्रमाण पत्र अपलोड करने का एक मौका दिया जाए। हालांकि प्रवेश समन्वयक प्रो. अमिता बाजपेयी ने काउंसिलिंग के अंतिम चरण में इसकी व्यवस्था करने में असमर्थता जाहिर की है।