मऊ जिले में परिषदीय स्कूलों का अनियमितता का मामला पहुंचा मुख्यमंत्री दरबार - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Friday, 2 October 2020

मऊ जिले में परिषदीय स्कूलों का अनियमितता का मामला पहुंचा मुख्यमंत्री दरबार


परिषदीय विद्यालयों में हुए ड्रेस वितरण व खेल सामग्री आपूर्ति में बेसिक शिक्षा विभाग पर गंभीर आरोप लगे हैं। अभी तक इस मुद्दे पर मुखर प्राथमिक शिक्षक संघ कोः अब सत्तासीन भाजपा का भी साथ मिल गया है। बच्चों के ड्रेस व खेल सामग्री की घटिया आपूर्ति का मामला अब सीएम दरबार पहुंच चुका है। भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता मनोज जायसवाल ने ड्रेस आपूर्ति मुख्तार अंसारी के गुर्गो द्वारा किए जाने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बीएसए के कार्यप्रणाली के जांच की मांग की है।


मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में भाजपा नेता ने लिखा है कि बेसिक शिक्षा अधिकारी ओपी त्रिपाठी ने वित्तीय वर्ष 2019 व 2020 के दोनों सत्रों में ड्रेस आपूर्ति मुख्तार अंसारी के गुर्गों द्वारा कराया गया। इनकी संस्था ने टेरीकाट के घटिया किस्म के ड्रेस का वितरण किया।

किसी-किसी विद्यालय पर एक पीस ही ड्रेस का वितरण कराया गया तो कहीं ड्रेस दी ही नहीं गई। जबकि विभिन्न विद्यालयों से दबाव बनाकर भुगतान करा लिया गया। इससे सरकार के करोड़ों रुपये का बंदरबांट किया गया। खेल सामग्री के नाम पर फर्जी मेला लगाकर बीएसए ने जबरन - भुगतान कराया और आपूर्तिकर्ता से मोटी रकम वसूली। इससे पढ़ने वाले बच्चों के साथ अन्याय किया गया है। .

भाजपा नेता ने लिखा है कि बार बार कहने के बावजूद बीएसए कहते हैं कि हमें ऊपर पैसा देना पड़ता है। इससे सरकार की मंशा को धूमिल करने का कुचक्र रखा गया है। मांग किया है कि प्रदेश स्तर की जांच एजेंसी से जांच कराकर दोषियों पर कठोर कार्रवाई की जाए।