कक्षाएं संचालन तक न बदला जाए समय साथ ही शिक्षकों की बीएलओ से हटाई जाए ड्यूटी, प्राथमिक शिक्षक संघ ने की बीएसए से समय परिवर्तन की मांग - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Friday, 2 October 2020

कक्षाएं संचालन तक न बदला जाए समय साथ ही शिक्षकों की बीएलओ से हटाई जाए ड्यूटी, प्राथमिक शिक्षक संघ ने की बीएसए से समय परिवर्तन की मांग


सीतापुर। परिषदीय विद्यालयों में जब तक बच्चों की कक्षाएं न शुरू हों तब तक विद्यालय का समय यथावत रखा जाए। संघ के जिलाध्यक्ष रवींद्र दीक्षित व जिला मंत्री साकेत वर्मा ने अन्य पदाधिकारियों के साथ बीएसए को गुरुवार को यह मांग पत्र सौंपा है। जिसमें कहा गया है कोरोना संक्रमण जिस तेजी से फैल रहा है उसको दृष्टिगत रखते हुए विद्यालय के संचालन का समय न बदला जाए। संघ ने गर्मी को देखते हुए बीएसए से अनुरोध किया है कि संक्रमण के चलते बच्चों के विद्यालय आने और कक्षाएं

संचालन पर प्रतिबंध है। के पदाधिकारियों ने बीएसए से कहा कि जब तक कक्षाएं संचालित न की जाएं अथवा शासन स्तर से दिशा निर्देश न आए जाए, तबतक शिक्षक हित में इस अहम समस्या का निदान अवश्य किया जाए। संघ के नवीन श्रीवास्तव, प्रदीप वर्मा, इमरान खान, शिव सागर वर्मा, आलोक श्रीवास्तव, हरवेंद्र यादव समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

दोषी बीईओ व अन्य पर हो कार्रवाई

प्राथमिक शिक्षक संघ ने बीएसए अजीत कुमार से प्रत्येक ब्लॉक के तत्कालीन बीईओ व एबीआरसी पर शिक्षकों के प्रमाण पत्र गायब होने में लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई किए जाने की मांग की है। संघ के जिला मंत्री संकेत वर्मा ने बताया कि वर्ष 2015 व 2016 में 72825 भर्ती में विशिष्ट बीटीसी अभ्यर्थियों ने बीआरसी पर मूल प्रमाण पत्र जमा किए थे। अधिकांश ब्लॉकों में शिक्षकों के यह प्रमाण पत्र डायट व बीआरसी पर तलाशने पर नहीं मिल रहे हैं। इससे शिक्षकों में जबरदस्त आक्रोश है। संघ ने मांग की है कि इसके लिए जिम्मेदार तत्कालीन बीईओ व एनआरसी जिम्मेदार हैं जिन पर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। संघ ने बीएसए से ऐसे शिक्षकों के मूल प्रमाण पत्र दिलाने की मांग की है ताकि अंतर्जनपदीय स्थानांतरण प्रक्रिया में उसे दिखा सकें।

बीएलओ से हटाई जाए ड्यूटी

शिक्षक संघ ने बीएसए से मांग की है कि जिले के शिक्षकों को पुनरीक्षण कार्य में बतौर बीएलओ झ्यूटी लगाई है, इसे निरस्त किया जाए। संघ के जिलाध्यक्ष रवींद्र दीक्षित ने कहा कि माननीय न्यायालय का इस बाबत पूर्व में आदेश भी है अत:न्यायालय के आदेश का अनुपालन कराया जाए। उन्होंने शिक्षकों को कायाकल्प योजना में 14 बिंदुओं के कार्य पूरा कराने समेत अन्य कार्य भी पूरे करने हैं।