31277 भर्ती में नवनियुक्त शिक्षक हर दिन दो स्कूलों का करेंगे निरीक्षण, जॉइनिंग के बाद विभाग ने काम में जुटाया:- शिक्षक की पसंद से दिया ब्लाक - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Tuesday, 20 October 2020

31277 भर्ती में नवनियुक्त शिक्षक हर दिन दो स्कूलों का करेंगे निरीक्षण, जॉइनिंग के बाद विभाग ने काम में जुटाया:- शिक्षक की पसंद से दिया ब्लाक


69 हजार शिक्षक भर्ती में नौकरी पाने वाले शिक्षकों को ज्वाइनिंग कराने के बाद विभाग ने काम पर लगा दिया है। स्कूलों का आवंटन होने से पहले शिक्षकों को न्याय पंचायत स्तर पर भेजकर विद्यालयों का निरीक्षण कराया जाएगा। सोमवार को शिक्षकों को न्याय पंचायत का आवंटन कर दिया। हर शिक्षक को दो विद्यालयों का निरीक्षण कर बीएसए को आज्ञा देना होगी।

प्रदेश में 31277 शिक्षकों की भर्ती को हरी झंडी मिलने के बाद शुक्रवार को समारोह में नियुक्ति पत्र का वितरण किया गया। जिले के 255 के सापेक्ष 234 अभ्यर्थियों को नौकरी मिली। शनिवार को उनकी ज्वाइनिंग बीएसए कार्यालय में करा ली गई। चूंकि विद्यालयों का आवंटन परिषद से होना है। लिहाजा, अभी स्कूलों की स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी। ऐसे में विभाग ने शिक्षकों को काम पर लगा दिया।


सोमवार को बीएसए कार्यालय में शिक्षकों को बुलाकर उन्हें न्याय पंचायत का आवंटन करदिया। हरन्याय पंचायत पर दो शिक्षकों को लगाया गया।

यह कायाकल्प, विभाग की योजनाएं, शारदा पोर्टल के कार्य का निरीक्षण कर हर रोज आख्या उपलब्ध कराएंगे। हर शिक्षक को दो विद्यालयों का निरीक्षण करना जरूरी है।

गए कोरोना से के सारे टूट गए कोरोना से बचाव के सारे नियम बीएसए कार्यालय में सोमवार को कोरोना से बचाव के सारे नियम टूट गए। नए शिक्षकों को कार्यालय में बुला लिया। उनकी लाइन लगवा दी गई।

अधिक शिक्षा होने के चलते बाहरी गेट तक शिक्षक लाइन में लगे नजर आए। वह दो गज की दूरी के नियम को फालो भी नहीं कर रहे थे सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो पाया।


शिक्षक की पसंद से दिया ब्लाक

न्याय पंचायत को नए शिक्षकों पर थोपा नहीं गया। वल्कि, उसकी च्वाइस भी पूछी गई। बीएसए राकेश कुमार ने उससे पूछा कि कौन से ब्लाक में जाएंगे। उसके चयन के बाद ही संबंधित तलाक की न्याय पंचायत में भेज दिया गया। शिक्षकों की भर्ती में नई व्यवस्था की गई। स्कूल आवंटन में होने वाली अनियमितता को पूरी तरह बंद करने का प्रयास किया गया है। नजदीक के स्कूलों में ज्यादा से ज्यादा लोग काम करना चाहते हैं इसके लिए वे धन देने को भी तैयार हो जाते हैं। लेकिन इस बात स्कूल आवंटन महानिदेशालय होने के कारण यह प्रक्रिया बंद है।