प्रदेश की 58,000 ग्राम पंचायतों में जल्द तैनात होंगी बैंकिंग सखी, यह होगा चयन का तरीका और इतना मिलेगा वेतन - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Monday, 7 September 2020

प्रदेश की 58,000 ग्राम पंचायतों में जल्द तैनात होंगी बैंकिंग सखी, यह होगा चयन का तरीका और इतना मिलेगा वेतन


ग्रामीण क्षेत्रों के कल्याण के लिए लायी गयीं योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ गांवों तक पहुँचाने पर सरकार का पूरा जोर है । इसी के तहत प्रदेश के करीब 58,000 ग्राम पंचायतों में इसी माह बैकिंग करेस्पांडेंट सखी (बवीसी सखी) की तैनाती होने जा रही है। वीसी सखी स्वयं सहायता समूहों और बैंक के वीच एक तरह से संपर्क सूत्र का काम करेंगी । इससे ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ दिलाने में भी मदद करेंगी और ग्रामीण परिवारों व स्वयं सहायता समूहों में डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने पर भी जोर देंगी। साथ ही वंचित परिवारों के फाइनेंशियल की (वित्तीय समावेशन) के लिए भी यह एक सशक्त माध्यम गी। यह जानकारी अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह ने दी। उन्होंने बताया कि वीसी सखी के लिए मांगे गए ऑनलाइन आवेदन के तहत करीव 3.59 लाख पंजीकरण हुए थे, जिनमें से 2.51 लाख आवेदन सही पाए गए है। अव चयन सम्बन्धी आगे की प्रक्रिया पर काम चल रहा है और कोशिश है कि इसी माह प्रक्रिया पूरी हो जायेगी। उन्होंने वताया कि इस बारे में 11 जून 2020 को एक एप रोल आउट किया गया था, जिस पर पूर्ण विवरण के साथ आवेदन करना था। वीसी सखी के चयन के लिए पहली वरीयता स्वयं सहायता समूह की उस सदस्य को दी जा रही है जो स्वयं सहायता समूह को सबसे पहले ज्वाइन किया हो और समूह के केंद्र विंदू के रूप में हो । इसके अलावा समूह को संचालित करने में जिसकी अहम भूमिका हो । ऐसे भी समूह हो सकते है जो वर्तमान में सक्रिय न हों लेकिन उनकी जागरूक गतिशील सदस्य को वीसी सखी वनाया जा सकता है। समूह को दोबारा से सक्रिय बनाया जा सकता है। इस चयन प्रक्रिया का उद्देश्य यही है कि ऐसी वीसी सखी की नियक्ति हो जिसमें नेतृत्व की क्षमता हो और नई तकनीक को सीखने और समझने की रुझान हो |

आरक्षण व्यवस्था होगी लागू : प्रदेश में चयनित की जाने वाली इन 58,000 वीसी सखी में राज्य सरकार द्वारा निर्धारित आरक्षण का अनुपालन भी सनिश्चित किया जाएगा ।

  • सरकार द्वारा  इस योजना के तहत चुनी गयी महिलाओ को नौकरी मिलेगी और अगले 6 महीने तक प्रतिमाह 4000 रूपये की धनराशि सैलरी के रूप में दी जाएगी |
  • डिजिटल डिवाइस खरीदने के लिए 50000  रूपये की सहायता धनराशि प्रत्येक बैंक सखी को दी जाएगी |


बीसी सखी को मिलेगी ट्रेनिंग : राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन चयनित वीसी-सखी का समुचित प्रशिक्षण और सर्टिफिकेशन सनिश्चित करेगा। प्रशिक्षण में भेजने से पहले उनका पुलिस वेरिफिकेशन भी होगा। इसके अलावा मिशन उनके ब्रंडिंग की व्यवस्था करेगा और उनका ड्रेस कोड निर्धारित करेगा ।