महानिदेशक स्कूल शिक्षा के निर्देश पर अफसरों ने देखी अहम कार्यालयों की बदहाली, कहीं स्टॉफ व अफसर नहीं तो कहीं कर्मचारियों की भरमार - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Friday, 21 August 2020

महानिदेशक स्कूल शिक्षा के निर्देश पर अफसरों ने देखी अहम कार्यालयों की बदहाली, कहीं स्टॉफ व अफसर नहीं तो कहीं कर्मचारियों की भरमार

महानिदेशक स्कूल शिक्षा के निर्देश पर अफसरों ने देखी अहम कार्यालयों की बदहाली, कहीं स्टॉफ व अफसर नहीं तो कहीं कर्मचारियों की भरमार


● महानिदेशक स्कूल शिक्षा के निर्देश पर अफसरों ने देखी बदहाली

● शिक्षा निदेशालय से कर्मचारियों को लखनऊ ले जाने का आदेश जल्द

● एससीईआरटी के कार्यालयों का निरीक्षण आज

 
प्रयागराज : शिक्षा महकमे के जिन अहम कार्यालयों के दम पर प्रयागराज को एजूकेशन हब कहा जाता है, उनकी तस्वीर एकदम उलट है। गुरुवार को शिक्षा विभाग के अफसरों की टीम पहुंची तो उसे कहीं अपेक्षित स्टॉफ व अफसर नहीं मिले तो कहीं कर्मचारियों की भरमार दिखी। इतना ही नहीं अफसरों के पद बड़ी संख्या में खाली हैं, यदि उन पदों पर तैनाती हो जाए तो बैठने की जगह भी नहीं है। शौचालय, कार्यालय, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाएं नदारद हैं।



महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद प्रयागराज मुख्यालय पर स्थित बेसिक शिक्षा के सभी कार्यालयों का पड़ताल करा रहे हैं। विशेष सचिव बेसिक शिक्षा सत्येंद्र कुमार व अपर शिक्षा निदेशक बेसिक शिक्षा लखनऊ सुत्ता सिंह की अगुवाई में पड़ताल शुरू हुई तो हकीकत सामने आ गई। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद मुख्यालय पर अधिकारियों की बेहद कमी मिली। सृजित पदों के सापेक्ष न अफसर तैनात हैं और न ही स्टॉफ है, जो अफसर हैं भी उनके बैठने का पर्याप्त स्थान नहीं है। आइटी सेल, लीगल सेल आदि का गठन अब तक नहीं हो सका है। प्रदेश भर के लोग यहां शिकायत करते हैं उसकी कंप्यूटर से मॉनीटरिंग करने तक का इंतजाम नहीं है। शौचालय और भवन में सफाई भी दुरुस्त नहीं थी।


पर्यवेक्षण टीम ने शिक्षा निदेशालय के अपर शिक्षा निदेशक बेसिक शिक्षा कार्यालय का मुआयना किया। वहां कर्मचारियों की संख्या अधिक है लेकिन अफसर अपेक्षित नहीं मिले। स्टॉफ को साफ पीने का पानी और बिजली के जेनरेटर आदि का इंतजाम नहीं है। ऐसे में यहां के कर्मचारियों को लखनऊ शिफ्ट करने की तैयारी है, क्योंकि वहां पर स्टॉफ की बेहद कमी है। सीमैट में भी आडीटोरिम, हास्टल में पुनर्निर्माण की जरूरत है और अफसरों के बैठने के कक्ष बनना है। तैयारी है कि हास्टल परिसर में निर्माण कराया जाए।

राज्य शिक्षा संस्थान उप्र प्रयागराज में भी गंदगी का अंबार मिला। हर जगह पर मूलभूत सुविधाओं का अभाव दिखा। पर्यवेक्षण में वरिष्ठ विशेषज्ञ राजेंद्र प्रसाद, विशेषज्ञ संजय शुक्ला, अवर अभियंता मनीष मिश्र व एसएन झा और अंकित जैन आदि थे।


महानिदेशक के निर्देश पर टीम शुक्रवार को एससीईआरटी के कार्यालयों का निरीक्षण करेगी। मनोविज्ञानशाला में इसकी बैठक होगी। उसके बाद समग्र रिपोर्ट महानिदेशक को सौंपी जाएगी, उसके बाद कार्य कराए जाएंगे।