शिक्षकों की टीईटी और बीटीसी प्रशिक्षण का होगा ऑनलाइन सत्यापन - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Thursday, 23 July 2020

शिक्षकों की टीईटी और बीटीसी प्रशिक्षण का होगा ऑनलाइन सत्यापन

शिक्षकों की टीईटी और बीटीसी प्रशिक्षण का होगा ऑनलाइन सत्यापन


शिक्षकों के अभिलेखों का वेबसाइट पर ही अपलोड रिकॉर्ड से करें सत्यापन


टीईंटी व बीटीसी प्रशिक्षण का सत्यापन ऑनलाइन होगा। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी अनिल भूषण चतुर्वेदी ने बुधवार को सभी जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान ( डायट) के प्राचायों एवं बेसिक शिक्षा अधिकारियों को सूचित किया है कि टीईटी 2013, 2014, 2015, 2016 व 2017 के उत्तीर्ण अभ्यर्थियों का विवरण विभाग की वेबसाइट http://examregulatoryauthorityup.in/  के होम पेज पर और बीटीसी प्रशिक्षण बैच 2011, 2012, 2014, 2014 व 2015 तथा शिक्षामित्रों के दो वर्षीय प्रशिक्षण के सभी चरणों का सत्यापन वेबसाइट www.btcexam.in उपलब्ध है।




कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना आवशक है। लेकिन एक सप्ताह से देखा जा रहा है कि विभिन्‍न जनपदों के कई अभ्यर्थी अध्यापक अपने पुराने प्रमाणपत्रों या| अंकपत्रों को प्राप्त करने या कराने के उद्देशय से कार्यालय आ रहे हैं। भीड़ बढ़ने से कर्मचारियों के होने की आशंका है। ऑनलाइन के आदेश 8 फरवरी 2019 को ही किए जा चुके हैं, जिसका पालन जाए। यदि ऑनलाइन सत्यापन में विसंगति मिलती है तो ई-मेल के से सत्यापन के लिए पत्र भेजें।


प्रयागराज : प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों के अभिलेखों का सत्यापन चल रहा है। ऐसे में परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में आए दिन प्रमाणपत्र सत्यापन के लिए भीड़ उमड़ रही है। यह स्थिति ठीक नहीं है कोरोना संक्रमण में कार्यालय में भीड़ होना उचित नहीं है।


सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी अनिल भूषण चतुर्वेदी ने सभी डायटों के प्राचार्य और बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर कहा है कि यूपी टीईटी 2013, 2014, 2015, 2016 व 2017 के उत्तीर्ण अभ्यर्थियों और बीटीसी प्रशिक्षण बैच 2011, 2012, 2013, 2014 व 2015 और शिक्षामित्रों के दूरस्थ प्रशिक्षण के प्रमाणपत्र वेबसाइट पर अपलोड हैं। सत्यापन के लिए किसी को कार्यालय में न भेजें, बल्कि जिन प्रमाणपत्रों में विसंगति मिले केवल वही भेजे जाएं। इस संबंध में आठ फरवरी को आदेश दिया गया था लेकिन अनुपालन नहीं हुआ।