पहली भर्ती में ही नहीं मिले कंप्यूटर शिक्षक, बीएड की अनिवार्यता से चयन घटा - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Wednesday, 29 July 2020

पहली भर्ती में ही नहीं मिले कंप्यूटर शिक्षक, बीएड की अनिवार्यता से चयन घटा

 प्रयागराज : कंप्यूटर देश में अजूबा नहीं है लेकिन, माध्यमिक शिक्षा महकमे को कंप्यूटर शिक्षक नहीं मिल पा रहे हैं। विभाग ने कंप्यूटर शिक्षकों की खोज के लिए भर्ती भी निकाली और बड़ी संख्या में पद आवंटित किए, लेकिन सारी कवायद व्यर्थ गई है, क्योंकि 1673 पदों के सापेक्ष सिर्फ 36 शिक्षकों का ही चयन हो सका है। इतना ही नहीं जो शिक्षक चयनित भी हुए हैं, उन्हें नियुक्ति नहीं मिल सकी है। इसका असर पढ़ाई पर पड़ रहा है।

माध्यमिक कालेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्रओं को कंप्यूटर की शिक्षा देने और इसमें दक्ष करने के लिए महकमे ने पहली बार कंप्यूटर शिक्षकों की नियुक्ति शुरू की। एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती 2018 में सबसे अधिक पद 1673 पद आवंटित किए गए, इसमें 898 पद पुरुष व 775 पद महिलाओं के लिए आरक्षित थे। पुरुष शाखा के पदों के लिए 7923 व महिला शाखा के लिए 2873 ने इम्तिहान दिया। परीक्षा प्रदेश के 39 जिलों में कराई गई। उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने इसका परिणाम 23 अक्टूबर 2019 को जारी किया। इसमें पुरुष वर्ग में 30 व महिला वर्ग में केवल छह सफल हो सके, बाकी पद खाली रह गए हैं। चयनितों शिक्षकों की पत्रवली शिक्षा निदेशालय को भेजी गई है और उनका सत्यापन चल रहा है, वह पूरा होने के बाद ही नियुक्ति मिल सकेगी। यह कब तक पूरा होगा अभी स्पष्ट नहीं है।

’>>1673 पदों के सापेक्ष सिर्फ 36 का चयन, नियुक्ति अब तक नहीं

’>>माध्यमिक शिक्षा विभाग ने बड़ी संख्या में निकाले थे पद, ख्वाब अधूरा

माध्यमिक शिक्षा विभाग ने एलटी ग्रेड शिक्षकों के चयन में बीएड को अनिवार्य कर दिया। अन्य विषयों में तो बीएड करने वालों ने ठीकठाक प्रदर्शन किया लेकिन कंप्यूटर में दक्ष अधिकांश अभ्यर्थी बीएड नहीं थे। उनकी मांग थी कि सिर्फ कंप्यूटर की ही डिग्री या डिप्लोमा को अर्ह किया जाए, क्योंकि यह विशेष चयन है। इसे विभाग ने नहीं माना इससे अपेक्षित आवेदन नहीं हो सके। कंप्यूटर में बीटेक व एमटेक आदि करने वाले बीएड नहीं थे। इसलिए जिन्होंने आवेदन किया उनमें से अधिकांश परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर सके।