69000 : सुप्रीम कोर्ट से क्या मिलेगा? . - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Sunday, 26 July 2020

69000 : सुप्रीम कोर्ट से क्या मिलेगा? .


69000 : सुप्रीम कोर्ट से क्या मिलेगा?
.
.
1) 69000 MQC यानी मिनिमम क्वालीफाइंग कटऑफ केस पर 24 जुलाई 2020 को ऑर्डर रिजर्व्ड हो गया है।
.
.
2) SLP Civil 6841/2020 Ram Sharan Maurya मुख्य केस है और सभी अपील उसी से कनेक्टेड हैं।
.
.
3) इसी के साथ आर्टिकल 32 के अंतर्गत भारांक को चैलेंज करती हुई WPC 703/2020 भी 24 जुलाई को ही लिस्ट हुई थी।
.
.
4) 24 जुलाई 2020 की प्रोसिडिंग रिपोर्ट के पेज नम्बर 9 पर आइटम नम्बर 317 पर यह याचिका भी लिस्टेड और मेंशनड है।
.
.
5) पेंडिंग मैटर में कुछ कहना जल्दबाजी होगी पर इतना है कि या तो 60/65 होना चाहिए और यदि 60/65 नहीं हुआ तो भारांक कम होना चाहिए।
.
.
6) भारांक पर सुनवाई ज्यादा हुई, कम हुई या नहीं हुई उसकी जानकारी हमें नहीं है। पर ऑर्डर रिजर्व्ड है तो जज साहब ने उसे कंसीडर अवश्य किया होगा अतः रिटेन सबमिशन में इस WPC के अंतर्गत भारांक विरोधी आदेशो(केस लॉज़) को भी सबमिट करना चाहिए।
.
.
7) इसी के साथ आंसर की का मुद्दा फिर से जीवंत करने की तैयारी है जिसके विषय मे हमने पहले भी सचेत किया था। उस पर रणविजय सिंह के साथ ध्यान रखना होगा। हमने पहले भी कहा था कि यदि आंसर की वाकई faulty है तो बदली जानी चाहिए। है कि नहीं हम नहीं जानते।
.
.
8) फिर एक मुद्दा NCBC द्वारा लगाई गई रोक का है। इसी के साथ MRC मुद्दे पर भी सुनवाई होनी है। यह डेटा सरकार के पास है अतः सरकार ही इसमें मुख्य रोल अदा करेगी। कोशिश यह रहनी चाहिए इस केस को पेंडिंग छोड़कर जोइनिंग करा ली जाए पर कोरोना के कारण यहां भाग्य आपके विपरीत है।
.
.
9) सुप्रीम कोर्ट आदेश रिजर्व्ड है। कब आएगा यह कोर्ट पर निर्भर है। हमारा मानना है कि अगस्त के तीसरे सप्ताह से पहले आ जाना चाहिए। बाकी देखते हैं।
.
.
10) फिर से कहेंगे कि आइटम 317 गेम चेंजर साबित हो सकता है इसलिए उस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। रिटेन सबमिशन में उसे वजन दिया जाना चाहिए। वो ट्रम्प कार्ड की तरह है।
.
.
11) इसके अतिरिक्त तेज प्रकाश पाठक केस में संवैधानिक पीठ को निर्णीत करना है कि कटऑफ अंक बाद में लगाये जा सकते हैं या नहीं। विपक्ष का जोर रहेगा कि मैटर को यहां से संवैधानिक पीठ ले जाया जाएं। इस पर भी ध्यान देना होगा। मेरिट के साथ अन्याय नहीं होगा ऐसा हमारा मानना है।