69000 भर्ती: पाठ्यक्रम से प्रश्न पूछने से ही रुकेंगे भर्ती के विवाद - PRIMARY KA MASTER | Update Marts | Primary Teacher | Basic Shiksha News

Breaking

Saturday, 6 June 2020

69000 भर्ती: पाठ्यक्रम से प्रश्न पूछने से ही रुकेंगे भर्ती के विवाद


69000 भर्ती: पाठ्यक्रम से प्रश्न पूछने से ही रुकेंगे भर्ती के विवाद

हर भर्ती परीक्षा से पहले पाठ्यक्रम जारी हो रहा, परीक्षा संस्था ने अंतिम उत्तरकुंजी में तीन सवाल विषय के न होने से हटाया


प्रयागराज : परीक्षा एकेडमिक हो या प्रतियोगी उसका पाठ्यक्रम तय होता है। इम्तिहान में वही प्रश्न पूछे जाने का नियम भी है, जिसकी पढ़ाई कराई गई या की गई है। शैक्षिक और परीक्षा संस्थाएं लिखित परीक्षाओं में पाठ्यक्रम की सीमा रेखा अक्सर पार कर जाती हैं। यूपी बोर्ड की परीक्षा में भी ऐसे प्रश्न पूछे जा चुके हैं, जिन पर खास वर्ग ने गंभीर आपत्ति जताई। 69000 शिक्षक भर्ती में प्रश्नों का विवाद इन दिनों जगजाहिर है। शिक्षाविद् कहते हैं कि तय पाठ्यक्रम के साथ ही ऐसे प्रश्न जिनके उत्तर विकल्प अधिक न हों, पूछे जाने पर ही विवाद का अंत होगा।



प्रदेश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा संस्था उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने भी एक नहीं कई मर्तबा उत्तरकुंजी के साथ प्रश्नों को खुद डिलीट किया है। उससे भी बात नहीं बनी और कई प्रश्नों पर प्रकरण कोर्ट तक पहुंचे हैं। माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र, उप्र उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग भी विवादित प्रश्न पूछकर किरकिरी करा चुके हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में तो इधर की लगभग सभी परीक्षाओं में प्रश्नों का विवाद रहा और उसका पटाक्षेप कोर्ट जाकर ही हुआ है। यूपी बोर्ड के स्कूलों में पाठ्यक्रम में चरणबद्ध तरीके से बदलाव हो रहा है। वहीं, बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में भी एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू करने की प्रक्रिया गतिमान है।


 इन भगीरथ प्रयासों को मंजिल तभी मिल सकेगी जब प्रश्न भी पाठ्यक्रम आधारित हों। 69000 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में हंिदूी के तीन प्रश्न ऐसे पूछे गए जो पाठ्यक्रम के नहीं थे। अंतिम उत्तरकुंजी में उन्हें हटाकर सभी को कामन अंक दिया गया। इसके बाद भी प्रश्नों के विवाद का अंत नहीं हो रहा है।


प्रतियोगी परीक्षा में ऐसे सवाल पूछे जाएं जिनके उत्तर विकल्प पर असमंजस न हों, यदि किसी सवाल का एक से अधिक उत्तर हो सकता है तो वह सवाल नहीं किया जाना चाहिए। उत्तरकुंजी कई विशेषज्ञों को मिलकर तैयार करनी चाहिए। -रूबी सिंह, शिक्षाविद् व पूर्व सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रयागराज


हर प्रतियोगी परीक्षा का पाठ्यक्रम तय होता है। विवाद से बचने के लिए विषय विशेषज्ञों को पाठ्यक्रम के अनुरूप ही प्रश्न तैयार करना चाहिए। परीक्षा कराने वाली संस्थाओं को भी ध्यान देना चाहिए कि पाठ्यक्रम से इतर प्रश्न न पूछे जाएं। -प्रो. केबी पांडेय, शिक्षाविद् व पूर्व अध्यक्ष उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयेाग